कनेक्टिविटी लैब


कनेक्टिविटी लैब

Facebook में कनेक्टिविटी लैब दुनिया भर के समुदायों में सस्ती इंटरनेट एक्सेस को संभव बनाने के तरीके विकसित कर रही है. यह टीम कई विविध तकनीकों को एक्सप्लोर कर रही है, जिसमें अधिक ऊँचाई, लंबे समय तक स्थिरता वाले विमान, सैटेलाइट और लेज़र शामिल हैं.

Aquila स्वचालित विमान

60,000 फ़ुट की ऊँचाई पर उड़ान भरके Aquila स्वचालित विमान दुनिया को जोड़ने के लिए एक अलग मार्ग अपना रहा है. इसके पूँछहीन डिज़ाइन और पंखों के बहुत अधिक फैलाव से यह बहुत ही सहजता से उड़ान भरता है, जबकि इसके सोलर सेल और बहुत-ही कार्यकुशल मोटर से यह महीनों हवा में रहकर धरती के कुछ सबसे दूरस्थ क्षेत्रों में इंटरनेट वितरित करता है.

लेज़र से कनेक्ट होना

Aquila की सीमा के कारण हम तेज़-गति वाला इंटरनेट वितरित करने नए तरीके ढूँढने की पूरी कोशिश कर रहे हैं. इसलिए हम मानवों द्वारा डेटा संचारित करने शुरुआती तरीकों में से एक—रोशनी का फिर से उपयोग करने लगे हैं. प्रति सेकंड लाखों-करोड़ों बार झिलमिलाने वाली अदृश्य इंफ़्रारेड लेज़र बीम अब बहुत कम पावर का उपयोग करके फ़ाइबर-ऑप्टिक गति पर डेटा भेजने में समर्थ है. लेज़र तकनीक का उपयोग करके हम Aquila विमान के संपूर्ण समूह को जोड़ने और इंटरनेट प्रदान करने में समर्थ हैं.

बिल्कुल नई चुनौतियाँ

दुनिया के कुछ अग्रणी वायुमंडल इंजीनियर इंटरनेट वितरित करने की हर पूर्वधारणा को चुनौती देने के लिए काम कर रहे हैं. एल्युमीनियम से हल्का और स्टील से 3 गुना अधिक मज़बूत कार्बन फ़ाइबर ढूँढना. लेज़र को इतना सटीक बनाना कि वे 12 मील की दूरी से भी ठीक से काम कर सकें. और लगभग 200° ताप के उतार-चढ़ाव के लिए उपयुक्त बनाना.